Press "Enter" to skip to content

बीते साल की तुलना में 29 हजार 326 मैट्रिक टन धान की अधिक खरीदी, चाक-चौबंध प्रशासनिक व्यवस्था से सहजता से बेचा 1 लाख 79 हजार 46 किसानों ने अपना धान

जांजगीर-चांपा. जिले में कलेक्टर जेपी पाठक के मार्गदर्शन और धान खरीदी की चाक-चौबंध प्रशासनिक व्यवस्था के चलते गत वर्ष की तुलना में खरीफ विपणन वर्ष 2019-20 में इस साल 29 हजार 326 मैट्रिक टन धान की अधिक खरीदी की गई। कलेक्टर जेपी पाठक के मार्गनिर्देशन में इस साल जिले के 209 उर्पाजन केन्द्रों के माध्यम से समर्थन मूल्य पर धान की सुव्यवस्थित खरीदी प्रारंभ की गई। धान खरीदी की अंतिम तिथि 20 फरवरी 2020 तक 7 लाख 86 हजार 679 मैट्रिक टन धान की खरीदी की गई। गत वर्ष 2018-19 में जिले के 204 खरीदी केन्द्रों के माध्यम से 7 लाख 57 हजार मैट्रिक टन धान खरीदा गया था। गत वर्ष एक लाख 51 हजार 616 किसानों का पंजीयन धान खरीदी हेतु किया गया था वहीं इस वर्ष एक लाख 73 हजार 205 किसान पंजीकृत किये गये थे. खरीफ विपणन वर्ष 2019-20 में कुल एक लाख 69 हजार 46 किसानों द्वारा अपना धान समर्थन मूल्य पर बेचा गया। खरीदी वर्ष 2018-19 में कुल पंजीकृत एक लाख 57 हजार 619 किसानों का 2 लाख 11 हजार  226.89 हेक्टेयर रकबे का पंजीयन किया गया था वहीं 2019-20 में एक लाख 75 हजार 205 किसानों का 2 लाख 19 हजार 607.43 हेक्टेयर रकबे का पंजीयन किया गया। इस प्रकार 2019-20 में 21 हजार 586 किसानों तथा 8 हजार 380.56 हेक्टेयर रकबे का अधिक पंजीयन किया गया। वर्ष 2018-19 में 75 लाख 73 हजार 525.96 मैट्रिक टन धान की खरीदी की गई। वहीं 2019-20 में 78 लाख 66 हजार 791.78 मैट्रिक टन धान खरीदा गया। इस प्रकार गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष 2 लाख 93 हजार 265.82 क्विंटल धान की अधिक खरीदी की गई।

23 हजार 52 क्विंटल धान जप्त, 22 वाहनों के विरूद्ध कार्यवाईः-  जिला जांजगीर-चांपा में खरीफ विपणन वर्ष 2019-20 में 120 सेवा सहकारी समितियों के कुल 209 खरीदी केन्द्रों के माध्यम से 1 लाख 73 हजार 205 किसानों का 2 लाख 19 हजार 607 हेक्टेयर रकबे का पंजीयन किया गया। जिसमें खरीदी अवधि के दौरान कुल पंजीकृत किसानों में से 1 लाख 69 हजार 46  (97.6 प्रतिशत) किसानों से कुल 7 लाख 86 हजार 679 मैट्रिक टन धान समितियों में बेचा गया। अवैध तरीके से बिचौलियों या अपने कुल पंजीकृत कोचियों के माध्यम से समितियों में धान न खपे इसके लिए विशेष निगरानी रखी गई थी। जांच हेतु दल गठित किये गये थे, जिनके माध्यम से 134 प्रकरण बनाए गये जिसमें 23 हजार 52 क्विंटल धान एवं 22 वाहनों के विरूद्ध कार्यवाही की गई। जिले में धान खरीदी व्यवस्था के विरूद्ध कृषकों द्वारा कहीं पर भी धरना  या विरोध प्रदर्शन नहीं किया गया। कुल उपार्जित धान में से अब तक 192 मिलरों के द्वारा लगभग 30 लाख एवं जिले के 5 संग्रहण केन्द्रों में 2.85 लाख मैट्रिक टन धान का उठाव कर लिया गया है, कुल धान उठाव 75 प्रतिशत एवं उपार्जन केन्द्रों में उठाव हेतु शेष 2 लाख मैट्रिक टन (25 प्रतिशत) है जिसे आगामी 5 मार्च तक समितियों से उठाव कर लिया जाएगा। जांजगीर चांपा जिले में अधिक धान खरीदी की वजहः- विगत वर्ष की तुलना में इस खरीफ विपणन वर्ष में 21 हजार 586 किसानों की संख्या में वृद्धि हुई है। जिससे 8 हजार 280 हेक्टेयर रकबा की वृद्धि हुई है। इन  किसानों के द्वारा पंजीयन कराया गया।शासन द्वारा 2500 रूपये प्रति क्विंटल की घोषणा के कारण नवीन पंजीयन की संख्या में वृद्धि जिले में धान के उत्पादन का औसत 25 से 30 क्विंटल प्रति एकड़ से लगभग है। गत वर्ष की तुलना में बलौदा एवं डभरा का कुछ क्षेत्र आंशिक सूखाग्रस्त था। जबकि इस खरीफ विपणन वर्ष में अच्छे मानसून एवं जिले की सिंचाई सुविधा में वृद्धि होने के कारण धान की अधिक पैदावार हुई । धान खरीदी की सुव्यवस्थित प्रशासनिक व्यस्थाः- खरीफ विपणन वर्ष 2019-20 में कुल 209 उर्पाजन केन्द्र बनाए गये थे। खरीदी केन्द्र पर 209 नोडल, 75 जिला स्तरीय नोडल, प्रत्येक विकासखण्ड में एक-एक इस प्रकार कुल 9 धान खरीदी सतर्कता दल का गठन किया गया था। वहीं कलेक्टर की अगुवाई में एक उच्च स्तरीय जिला स्तरीय निरीक्षण टीम का गठन किया गया था। इस प्रकार पूरे जिले में करीब 350 जिला खंड स्तरीय अधिकारी सुव्यवस्थित कार्य में संलग्न किये गये थे। कलेक्टर जेपी पाठक, पुलिस अधीक्षक श्रीमती पारूल माथुर, जिला पंचायत सीईओ तीर्थराज अग्रवाल, खाद्य अधिकारी, सहायक पंजीयक सहकारिता, जिला विपणन अधिकारी सहित एस.डी.एम. तथा तहसीलदार, नायब तहसीलदार, जनपदों के मुख्य कार्यपालन अधिकरियों द्वारा तत्परता पूर्वक धान खरीदी कार्य का सतत अवलोकन किया जा रहा था। कलेक्टर श्री पाठक के मार्गदर्शन में इस चुस्त-दूरूस्त प्रशासनिक व्यवस्था तथा सतत निरीक्षण से जिले में सुचारू और सुव्यवस्थित रूप से धान खरीदी का कार्य व्यापक पैमाने पर सफलतापूर्वक किया गया।  
कलेक्टर श्री पाठक ने धान खरीदी कार्य में संलग्न सभी अधिकारियों-कर्मचारियों का सुव्यवस्थित खरीदी के लिए धन्यवाद ज्ञापित किया। उन्होंने आपसी समन्वय और टीम वर्क से धान खरीदी के लिए किये गये कार्यो की तारीफ की। ज्ञातव्य है कि जांजगीर-चांपा जिला छत्तीसगढ़़ में सर्वाधिक धान खरीदी करने वाला जिला है।

error: Content is protected !!