Press "Enter" to skip to content

मुख्यमंत्री को वादा याद दिलाएगा प्रदेश लिपिक कर्मचारी संघ

जांजगीर-चाम्पा. विगत वर्ष 17 फरवरी 2019 को बिलासपुर में लिपिक महाधिवेशन राज्य के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के मुख्य आतिथ्य में सम्पन्न हुआ था। छ. ग.प्रदेश लिपिक वर्गीय शासकीय कर्मचारी संघ के तत्वधान में आयोजित इस महाधिवेशन में प्रदेश भर के लिपिक कर्मचारी शामिल हुए थे. उक्त अधिवेशन में लिपिकों के वर्षो पुरानी मांग वेतन विसंगति दूर करने के संबंध में मुख्यमंत्री से निवेदन किया गया था। अपने उदबोधन में मुख्यमंत्री ने कहा था कि वर्तमान सत्र में सरकार किसानों के कर्जमाफी के लिए संकल्पित है परंतु अगला वित्तीय वर्ष लिपिकों के नाम होगा। बजट सत्र 2019-20 में लिपिकों के वेतन विसंगति दूर किये जाने हेतु प्रावधान किया जाएगा किंतु सम्मेलन के एक वर्ष बाद भी अब तक जबकि वर्तमान वित्तीय वर्ष समाप्ति की ओर है, लिपिकों को दिया गया आश्वाशन झूठा साबित होने जा रहा है।
संघ के प्रांताध्यक्ष रोहित तिवारी ने प्रदेश भर के लिपिकों को संबोधित करते हुए कहा आज पर्यन्त तक मांग पूरी ना होने पर लिपिक संघ एक बार फिर आंदोलन की राह पर है जिसके तारतम्य में दिनांक 17 फरवरी 2020 दिन सोमवार को प्रदेश भर के लिपिक जिला मुख्यालयों में मुख्यमंत्री एवं मुख्य सचिव के नाम वादा निभाओ स्मरण ज्ञापन जिला कलेक्टर के माध्यम से सौपेंगे। संघ के जिलाध्यक्ष संतोष तिवारी एवं जिला सचिव उज्ज्वल तिवारी ने जिला भर के लिपिकों से आह्वान किया है कि वो भोजनावकाश में कलेक्टर परिसर में उपस्थित हो। लिपिकों का उक्त ज्ञापन कार्यक्रम को आंदोलन की शुरुवात के रूप में देखा जा रहा है, चरणबद्ध आंदोलन के अगले चरण में विधानसभा सत्र के दौरान प्रत्येक लिपिक प्रतिदिन दो पोस्ट-कार्ड क्रमशः मुख्यमंत्री एवं मुख्य सचिव के नाम लिखेंगे जिसमें वेतन विसंगति दूर करने के मुख्यमंत्री के वादे का स्मरण कराया जाएगा 17 फरवरी को प्रदेश स्तर के पदाधिकारियों में प्रदेश सचिव श्री प्रवीण दुबे विशेष रूप से शामिल होंगे।

error: Content is protected !!