Press "Enter" to skip to content

आपसी समन्वय से दूसरे राज्यों से आने वाले मजदूरों के क्वारेंटीन, आवास, भोजन की पुख्ता व्यवस्था सुनिश्चित करें : प्रभारी मंत्री, जिले में कोविड-19 के संक्रमण के नियंत्रण के लिए किए जा रहे कार्यों की विधानसभा अध्यक्ष और प्रभारी मंत्री ने की प्रशंसा, जिला और पुलिस प्रशासन को दी बधाई, वीडियो कांफ्रेंसिंग से हुई समीक्षा बैठक

जांजगीर -चांपा. जांजगीर-चांपा जिले के प्रभारी मंत्री और राज्य के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा कि जिले के अन्य राज्यों सेप्रवासी श्रमिकों का आगमन होने पर उनको सुरक्षित क्वारंटीन में रखने तथा उनके आवास, भोजन, स्वास्थ्य परीक्षण आदि की पुख्ता सामयिक व्यवस्था सुनिश्चित करें। उन्होंने राज्य स्तरीय नोडल अधिकारियों से सतत संपर्क और समन्वय बनाकर कार्य करने की आवश्यकता बताई।
रायपुर निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए उन्होंने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण के प्रति विशेषकर जिनमें कोविड-19 के संक्रमण के लक्षण नहीं दिख रहे हो, ऐसे श्रमिकों के प्रति विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है। उन्होंने आगंतुक श्रमिकों को कम से कम 14 दिन क्वारंटीन करने और उनकी अधिक से अधिक रेंडम टेस्टिंग करने के निर्देश दिए । प्रभारी मंत्री ने इस कार्य में फ्रंट लाईन अधिकारियों, कर्मचारियों को सर्तकता और सावधानी बरततेे हुए कार्य करने की हिदायत दी ।
प्रभारी मंत्री ने स्वास्थ्य अमले से सिर्फ चिकित्सीय कार्य करने के निर्देश दिए। उन्होंने जिले में आने वाले श्रमिकों तथा अन्य लोगों के क्वारंटीन, आवास, भोजन आदि की पूर्व व्यवस्था सुनिश्चित करने कहा।
बैठक में बताया गया कि जिले के अन्य प्रांतों से लाने 12 विशेष ट्रेन की व्यवस्था की गई है। करीब 8 हजार श्रमिक आगामी कुछ दिनों में वे अपने गृह ग्राम पहुंचेंगे । उन्होंने जरूरत के मुताबिक टेस्टिंग कीट पूर्व से संग्रहित करने के निर्देश दिए। प्रभारी मंत्री ने सीएमएचओ से कोविड-19 के संक्रमण को रोकने स्वास्थ्य सुविधाओं की विस्तृत जानकारी ली।
[su_heading]इस खबर को भी देखिए…[/su_heading]
[su_youtube url=”https://youtu.be/RGZ3EGacA4w”]
बैठक में कलेक्टर जेपी पाठक ने बताया कि जिले के करीब 34 हजार मजदूर कोविद -19 के लाकडाउन में अन्य प्रांतों में फंसे हुए हैं। इनमें सर्वाधिक श्रमिक जम्मू-कश्मीर में करीब 20 हजार हैं। महाराष्ट्र में 2 हजार 800 उत्तर प्रदेश में 1788 श्रमिक ।अब तक प्राप्त सूचना के मुताबिक जिले के पामगढ़ विकासखंड में सर्वाधिक 9 हजार 900 श्रमिक अन्य प्रांतों में लॉक डाउन में फंसे हुए हैं। कलेक्टर ने बताया कि अन्य प्रांतों से आने वाले श्रमिकों को क्वारंटीन करने तथा उनके भोजन, आवास, स्वास्थ्य जांच के लिए समुचित व्यवस्था जिले में सुनिश्चित कर ली गई है।
विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत ने कोविड-19 के संक्रमण को रोकने जिला पुलिस प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग सहित अन्य विभागीय अधिकारियों के कार्यों की प्रशंसा की और उन्हें बधाई दी। उन्होंने सक्ति सहित सभी विधानसभा क्षेत्रों के विकास खंडों में गरीबों को चावल वितरण की समय पर कार्रवाई के निर्देश दिए। डॉ.महंत ने कृषि कार्य के मददे् नजर मवेशी बाजार खोलने और 165 ग्राम पंचायतों, जहां मनरेगा का काम अभी शुरू नहीं हुआ है. वहां काम स्वीकृत करने और प्रारंभ कराने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि बाहर राज्यों से आने वाले प्रवासी मजदूरों की मदद और उनकी जरूरतों की चिंता सभी को करते हुए उनकी समस्याओं के समाधान के लिए गंभीरता से कार्य करने की जरूरत है। डॉ.महंत ने आने वाले श्रमिकों को क्वारंटीन तथा आवास ,भोजन आदि की व्यवस्था उनके गांव के पास ही करने की आवश्यकता बताई।
बैठक में प्रभारी मंत्री द्वारा सभी विधायकों से चर्चा की गई और उनकी समस्या तथा मांग पर कलेक्टर को उचित कार्यवाही करने के निर्देश दिए । बैठक में प्रभारी मंत्री द्वारा कोविड अस्पताल की तैयारी, टीकाकरण, सामान्य स्वास्थ्य सुविधा, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में वाहनों की व्यवस्था की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि अन्य प्रांतों से जिन ग्रामों में ज्यादा मजदूर आ रहे हैं वहां उसी के अनुरूप चिकित्सा स्टाफ की ड्यूटी लगाई जाए तथा फिजिकल डिस्टेंस का कड़ाई से पालन सुनिश्चित किया जाय।
बैठक में प्रधानमंत्री आवास, प्रधानमंत्री सड़क योजना, सिंचाई, मनरेगा, कृषि, खाद्य ,नरवा, गरवा, घुरवा, बाडी, बीज खाद भंडारण एवं संग्रहण, लोक निर्माण, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, वन, तेंदूपत्ता संग्रहण की तैयारी, समाज कल्याण, कानून व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा करते हुए संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए गये।
पुलिस अधीक्षक श्रीमती पारुल माथुर ने क्वारेंटीन में रह रहे लोगों के लोकेशन की जानकारी के लिए निर्मित एप्प, नाको में ड्यूटी करने वाले पुलिस अधिकारियोंऔर पुलिसकर्मियों का स्वास्थ्य परीक्षण और कोविड-19 के संक्रमण को रोकने एनसीसी, नेहरू युवा केंद्र की मदद, बाहर राज्यों से आने वाले वाहन चालकों-परिचालकों पर निगरानी, फेसबुक के माध्यम से आम लोगों को कोविड-19 के प्रति जागरूकता हेतु प्रचार प्रसार आदि की विस्तृत जानकारी दी।
बैठक के अंत में जिला पंचायत सीईओ श तीर्थराज अग्रवाल द्वारा प्रभारी मंत्री द्वारा आज की बैठक में दिए गये निर्देशों के अनुरूप कार्य करने की प्रतिबद्धता के साथ आभार व्यक्त किया गया ।
बैठक में राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री जयसिंह अग्रवाल, विधायक नारायण चंदेल, केशव चंद्रा, सौरभ सिंह, श्रीमती इंदु बंजारे, रामकुमार यादव, प्रशासनिक, पुलिस प्रशासन के अधिकारी और विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

READ ALSO-  बलौदा थाने में पदस्थ आरक्षक का गणतन्त्र दिवस के मुख्य समारोह में हुआ सम्मान