Press "Enter" to skip to content

वेतन वृद्धि रोकना कर्मचारियों के आर्थिक हितों का हनन : संतोष तिवारी, सरकार आदेश वापस नहीं लेगी तो होगा उग्र आंदोलन

जांजगीर-चाम्पा. छग प्रदेश लिपिक वर्गीय शास. कर्म संघ के जिला अध्यक्ष संतोष तिवारी ने प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा जारी वेतनवृद्धि रोकने के आदेश को कर्मचारी विरोधी बताते हुए विरोध दर्ज किया है इस संबंध में उन्होंने कहा कि वैश्विक महामारी के इस दौर में जहां लिपिक अपनी सेहत को ताक में रखकर कोरोना के खिलाफ हर मोर्चे पर सरकार का साथ दे रहे हैं, ऐसे में वेतन वृद्धि रोकने का आदेश कर्मचारियों के आर्थिक हितों का हनन है. इस संबंध में संघ के प्रदेशाध्यक्ष रोहित तिवारी के निर्देशानुसार पूरे प्रदेश में लिपिकों के द्वारा 1 जून को मुख्यमंत्री एवं मुख्य सचिव के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा गया। प्रदेशाध्यक्ष रोहित तिवारी की बातों को दोहराते हुए उन्होंने कहा कि यदि सरकार इस कर्मचारी विरोधी आदेश को वापस नहीं लेती है तो लिपिक संघ उग्र आंदोलन करेगा. गौरतलब है कि इससे पहले शासन द्वारा एक दिवस का वेतन काटे जाने के सम्बंध जारी आदेश को सबसे पहले संघ के प्रदेशाध्यक्ष ने ही समर्थन दिया था और उनके आह्वाहन पर प्रदेश भर के लिपिकों ने माह मार्च में अपना एक दिन का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में दान किया था । इस अवसर पर उपस्थित संघ की महिला प्रकोष्ठ की अध्यक्ष इला राय चौधरी ने बताया कि जब किसी कर्मचारी के खिलाफ कोई अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाती है उस स्थिति में उसकी वेतन वृद्धि रोकी जाती है , आज की स्थिति में जब लिपिक अपने कार्य के अलावा कोरोना की रोकथाम में सरकार का हाथ बटा रहे है अतिरिक्त समय देकर अपना काम कर रहे है ऐसे में पारितोषिक देने के बजाय वेतनवृद्धि रोकना सरकार की प्रतिकूल कार्यवाही है । संघ के संरक्षक केके पांडेय बताते है कि वर्तमान में स्वास्थ्य विभाग और शिक्षा विभाग सहित अन्य विभागों के लिपिकों की ड्यूटी रेलवे स्टेशन में, चेक पोस्ट में और क्वारंटीन सेंटरों में लगाई गई है ऐसे में लिपिक अपने स्वास्थ्य की चिंता किये बिना पूरी लगन से आदेशो का पालन कर रहे है ऐसे में वेतन वृद्धि रोकने का सरकारी फरमान कर्मचारियों के लिए आर्थिक कुठाराघात है यदि समय रहते उक्त कर्मचारी विरोधी आदेश वापस नही लिया गया तो संघ आंदोलन के लिए बाध्य होगा. आज मुख्यमंत्री के नाम अतिरिक्त जिलाधीश जांजगीर को कर्मचारी विरोधी आदेश को वापस लेने हेतु ज्ञापन सौपा गया इस अवसर पर सोशल/फिजिकल डिस्टेंसिग का पालन करते हुए जिलाध्यक्ष संतोष तिवारी, जिलाध्यक्ष महिला प्रकोष्ठ इला राय चौधरी, अध्यक्ष शिक्षा विभाग शिवानंद राठौर, सुरेंद्र खरे, चाम्पा अध्यक्ष रवि दुबे , एसके यादव , मनीराम खांडेकर आदि उपस्थित थे ।

READ ALSO-  BIG NEWS : जांजगीर. जैजैपुर क्षेत्र में अनियन्त्रित होकर बोलेरो पलटी, 6 लोग घायल, 4 गम्भीर रेफर