Press "Enter" to skip to content

कोरोना पॉजिटिव मरीजों को लेने पहुंचे स्वास्थ्य अमले को लौटाया, महिलाओं ने किया जमकर हंगामा, पुलिस फोर्स के पहुंचने के बाद भी आक्रोशित थीं महिलाएं… क्यों नाराज थीं महिलाएं और फिर क्या हुआ… पढ़िए…

जांजगीर-चाम्पा. पामगढ़ क्षेत्र के सेमरिया गांव में कल 33 लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव थी. इन मरीजों को आज स्वास्थ्य अमला द्वारा कोविड अस्पताल शिफ्ट किया जा रहा था, इस दौरान गांव की महिलाएं भड़क गईं और हंगामा करने लगीं.
महिलाओं का कहना था कि सभी को गांव से ले जाया जा रहा है, गांव में ही सभी का इलाज किया जाए. सैम्पलिंग समेत ऐसी अन्य और भी बातें थीं, जिसे लेकर महिलाएं नाराज थीं. यहां माहौल कई घण्टों तक गरमाया रहा.

इस दौरान महिलाओं के हंगामा को देखते हुए बीएमओ समेत स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी और कर्मचारी मौके से निकले और पुलिस को सूचना दी.
सूचना के बाद फोर्स के साथ पुलिस सेमरिया गांव पहुंची. पामगढ़ एसडीएम, तहसीलदार, एसडीओपी, बीएमओ समेत कई अधिकारी भी पहुंचे और हंगामा कर रही महिलाओं को समझाइश दी. काफी वक्त बाद महिलाएं शांत हुईं.

एसडीओपी दिनेश्वरी नन्द ने बताया कि सुबह से कोरोना पॉजिटिव आए लोगों को एम्बुलेंस से स्वास्थ्य अमला द्वारा कोविड अस्पताल शिफ्ट किया जा रहा था. गांव के 33 पॉजिटिव मरीज में से 20 दोपहर तक कोविड अस्पताल शिफ्ट हो गए थे. इस दौरान दोपहर करीब साढ़े 3 बजे महिलाएं अचानक भड़क गईं और हंगामा करते हुए पत्थर पकड़कर स्वास्थ्य अमला पर हावी होने लगी.
इस दौरान स्वास्थ्य अमला मौके से निकल गया और दूसरे गांव में पहुंचकर पुलिस को सूचना दी.
यहां महिलाओं ने कई घण्टे तक हंगामा किया. बाद में महिलाओं को समझाइश दी गई और कोरोना की गंभीरता के बारे में बताया गया, उसके बाद महिलाएं शांत हुई.
पामगढ़ बीएमओ डॉ. सौरभ यादव का कहना है कि महिलाओं ने हंगामा किया. महिलाओं का कहना था कि गांव के सभी लोगों को कोरोना के नाम पर कोविड अस्पताल शिफ्ट किया जा रहा है, घर को कौन संभालेगा. गांव में ही इलाज किया जाए. हालांकि, महिलाओं और ग्रामीणों को समझाइश दी गई, जिसके बाद वे शांत हुई. इसके बाद अब सभी मरीजों को कोविड अस्पताल शिफ्ट कर दिया गया है.

READ ALSO-  BIG NEWS : जांजगीर. बलौदा क्षेत्र में अज्ञात वाहन ने बाइक सवार को कुचला, मौके पर ही मौत, पुलिस पहुंची, लोगों की भीड़ के बाद तनाव