Press "Enter" to skip to content

Vastu Tips : लिविंग रूम की नेगेटिव एनर्जी को दूर करने के लिए फॉलो करें ये वास्तु टिप्स

घर बनाते समय वास्तु शास्त्र का विशेष ख्याल रखा जाता है। इसके तहत घर के सभी हिस्सों का निर्माण कराया जाता है। हालांकि, कई लोग घर बनाते समय वास्तु का ख्याल रखते हैं, लेकिन लिविंग रूम को भूल जाते हैं। वास्तु जानकारों की मानें घर निर्माण के बाद लिविंग रूम की सजावट वास्तु अनुसार करनी चाहिए। इससे लिविंग में पॉजिटिव एनर्जी आती है। लापरवाही बरतने पर घर में वाद-विवाद और क्लेश होता रहता है। अगर आप भी लिविंग रूम की नेगटिव एनर्जी को दूर करना चाहते हैं, तो ये वास्तु टिप्स जरूर फॉलो करें-

READ ALSO-  Coronavirus Cases Today : देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना 2 लाख 85 हजार केस मिले, कल से 11.7 फीसदी ज्यादा

वास्तु जानकारों की मानें तो लिविंग रूम में सबसे ज्यादा खिड़कियां होनी चाहिए। इससे लिविंग रूम में सकारात्मक शक्ति का संचरण होता है। आप जब कभी लिविंग रूम का निर्माण करवाएं, तो लिविंग रूम में अधिक खिड़कियां दिलवाएं।
-अन्य कमरों की तरह लिविंग रूम नहीं होना चाहिए। लिविंग रूम सबसे बड़ा होना चाहिए।

लिविंग रूम में कभी भी रोने, दुःख, क्लेश से संबंधित तस्वीर न लगाएं। इससे घर में नकारात्मक शक्ति आती है।

READ ALSO-  FIR on Khan Sir : छात्रों को भड़काने के आरोप में खान सर पर FIR, कई अन्य कोचिंग संस्थानों के शिक्षकों के भी नाम

घर से नकारात्मक शक्तियों को दूर करने के लिए रोजाना शाम में दिया या मोमबत्ती जरूर जलाएं। आप पूजा घर या मेडिटेशन स्पॉट पर जला सकते हैं।

लिविंग रूम में फूल जरूर लगाएं। बनावटी फूलों के बदले में प्राकृतिक फूल लगाएं। साथ ही दिवारों और छत के कलर्स अलग रहना चाहिए। आसान शब्दों में कहें तो दिवार और छत का रंग अलग हो।
डिसक्लेमर
‘इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।’