Press "Enter" to skip to content

खास कोशिश, अलग खबर : कौन बनेगा करोड़पति की तर्ज पर सेंदरी प्रायमरी स्कूल में वार्षिकोत्सव, केबीसी की हाट सीट की तर्ज पर बना मंच, विजेता छात्र को मिला 1 हजार नगद पुरस्कार

जांजगीर-चाम्पा. नवागढ़ ब्लाक के संकुल केन्द्र धनेली के शास. जनपद प्राथ. शाला सेंदरी में ‘कौन बनेगा करोड़पति’ की तर्ज पर हाट शीट में प्राथमिक विद्यालय के बच्चों को बैठाकर वार्षिकोत्सव कार्यक्रम संपन्न किया गया। पूरे मंच को केबीसी के सेट की तरह ही तैयार किया गया था, जिसमें कक्षा तीसरी का छात्र सूर्या पटेल ने सभी सवालों का जवाब देकर विजेता बना, जिसे एक हजार रूपये नगद राशि से पुरस्कृत किया गया। अपनी तरह का यह अनोखा वार्षिकोत्सव पूरे क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है।



कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी नवागढ़ विजय कुमार लहरे तथा विशिष्ट अतिथि श्रीमती ऋषिकांता राठौर खण्ड समन्वयक नवागढ़ रही। कार्यक्रम की अध्यक्षता जनपद सदस्य श्रीमती फुलमत खरे व ग्राम सरपंच सेंदरी श्रीमती उर्मिला पटेल ने किया। आयोजन को सफल बनाने में धनेली के शैक्षिक समन्वयक पुरूषोत्तम लाल साहू, संकुल केन्द्र प्रभारी प्रतापदास महंत, प्रधान पाठक सनत पाण्डेय, प्रमेश साहू, कमलेश्वरी पाण्डेय, श्वेता शर्मा, श्रीमती शकुंतला पटेल, उमेश राठौर, श्रीमती ज्ञानेश्वरी भैना, उमेश दुबे, साहू, हरनारायण साहू, सौरभ पाण्डेय, धनपत खरे, विद्यानंद बंजारे, उपसरपंच रामचरण कश्यप, लक्ष्मी पटेल सहित शाला प्रबंधन समिति के पदाधिकारियों व पालकों का सराहनीय योगदान रहा। कार्यक्रम का संचालन शिक्षिका शिक्षक मनोज कुमार पटेल ने किया।

READ ALSO-  Janjgir Politics : पामगढ़ पहुंचे बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष अरुण साव, कहा, 'गौमाता की रक्षा और सम्मान के लिए बीजेपी लड़ाई लड़ेगी, कांग्रेस सरकार को कटघरे में खड़ा कर अंदोलन करेगी', 'गौमाताओं पर अत्याचार का पाप कांग्रेस सरकार पर लगेगा', भैंसो गांव में गायों की मौत के मामले को लेकर दिया बड़ा बयान

 

गौरतलब है कि कौन बनेगा करोड़पति की तर्ज पर कौन बनेगा विजेता का नवाचार शिक्षक मनोज पटेल द्वारा शिक्षा सत्र के आरंभ से चलाया जा रहा था, जिसका समापन को वार्षिकोत्सव के रूप में धूमधाम से मनाया गया। मुख्य अतिथि नवागढ़ बीईओ विजय कुमार लहरे ने अपने संबोधन में कहा कि इस तरह का आयोजन पूरे जिले में पहली बार हो रहा है जिसे ब्लाक के अन्य स्कूलों में कराया जाना चाहिए. इससे विद्यार्थियों का न केवल सांस्कृतिक बल्कि शैक्षिक विकास होता है। बीआरसीसी श्रीमती ऋषिकांता राठौर ने कहा कि बचपन से ही सामान्य ज्ञान की तैयारियां कराते हुए इस तरह के सांस्कृतिक आयोजन के माध्यम से हम शिक्षक बच्चों का चहुंमुखी विकास करें।
छोटे बच्चों के शैक्षिक विकास के चलाये जा रहे इस नवाचारी गतिविधि से बच्चों की जिज्ञासा व सामान्य ज्ञान में व्यापक बढ़ोत्तरी हुई है। आयोजन में प्राथमिक विद्यालय के नन्हे मुन्हे बच्चों ने देशभक्ति, छत्तीसगढ़ी संस्कृति, शिक्षा, नशा उन्मूलन सहित बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने पर आधारित रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों की भी झमाझम प्रस्तुति दी।

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!