Press "Enter" to skip to content

नौकरी लगाने के नाम पर साढ़े 7 लाख रूपए की ठगी, आरोपी पति-पत्नी के खिलाफ एफआईआर, आरोपी दम्पति फरार, तफ्तीश में जुटी पुलिस

जांजगीर-चाम्पा. मुलमुला पुलिस ने युवती से नौकरी लगाने के नाम पर साढ़े 7 लाख रुपये की ठगी करने वाले पति-पत्नी के खिलाफ धोखाधड़ी करने की एफआईआर दर्ज की है. एफआईआर के बाद आरोपी दम्पति रितेश दुबे उर्फ ऋतुराज और रेणु दुबे फरार है. आरोपी दम्पति, बिलासपुर जिले के चकरभाठा क्षेत्र के धमनी गांव के रहने वाले हैं.
मुलमुला थाना प्रभारी केपी टण्डन ने बताया कि कोनार गांव की युवती उषा कश्यप, 2017-18 में बिलासपुर टॉयपिंग सीखने जाया करती थी. यहां उसकी मुलाकात रितेश दुबे उर्फ ऋतुराज से हुई. इस बीच रितेश दुबे ने खुद की मंत्रालय में अच्छी पहचान होने का दावा किया और मत्स्य विभाग में नौकरी लगा देने की बात कही.
इसके बाद नौकरी लगाने का झांसा देने वाले रितेश दुबे और उसकी पत्नी रेणु दुबे, कोनार गांव पहुंची और शिकायतकर्ता युवती के माता-पिता के पास पहुंचे और नौकरी लगाने का दावा कर रुपये ऐंठ लिए. अलग-अलग क़िस्त में साढ़े 7 लाख रुपये ले गए.
इस बीच युवती की नौकरी नहीं लगी और दम्पति, उसे घुमाने लगे, रुपये की भी वापसी नहीं की. बाद में दम्पति ने अपना मोबाइल बन्द कर दिया.
इसके बाद शिकायतकर्ता युवती उषा कश्यप ने मुलमुला थाने में एफआईआर दर्ज कराई, जिसके बाद पुलिस ने आरोपी पति रितेश दुबे उर्फ ऋतुराज और उसकी पत्नी रेणु दुबे के खिलाफ आईपीसी की धारा 420, 34 के तहत जुर्म दर्ज किया है और पुलिस द्वारा दोनों आरोपी पति-पत्नी की तलाश की जा रही है. एफआईआर के बाद आरोपी दम्पति फरार है.

READ ALSO-  बलौदा थाने में पदस्थ आरक्षक का गणतन्त्र दिवस के मुख्य समारोह में हुआ सम्मान