Press "Enter" to skip to content

ऋषि कपूर की फिल्म ‘बॉबी’ का इंदिरा गांधी से था खास कनेक्शन, जानिये

बॉलीवुड के जाने-माने और सबसे दिग्गज अभिनेताओं में से एक ऋषि कपूर अब हमारे बीच नहीं हैं। कैंसर से जूझने के बाद ऋषि कपूर ने इस संसार को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया है। बीते 30 अप्रैल को उनके निधन के बाद से दो विशेष बातों को लेकर सबसे ज्यादा चर्चा चल रही है। इनमें से पहला उनके बेटे रणबीर कपूर के साथ उनका रिश्ता है, जबकि दूसरा उनकी फिल्मों में दिखने वाला रोमांस है।

इतिहासकार की कहानी
ऋषि कपूर की फिल्मों में रोमांस वाले किस्से सबसे ज्यादा इस वक्त चर्चा में बने हुए हैं। इसी क्रम में एक बहुत ही दिलचस्प कहानी प्रख्यात इतिहासकार रामचंद्र गुहा की ओर से अपनी किताब ‘इंडिया आफ्टर गांधी’ में लिखी गई है। ऋषि कपूर के रोमांस वाली पहली फिल्म बॉबी थी। उनकी फिल्म बॉबी और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को लेकर इस किताब में एक कहानी का जिक्र किया गया है, जो कि वर्तमान समय में पूरी तरीके से प्रासंगिक नजर आती है।

READ ALSO-  CBSE Class 12 Term 1 Result 2021 : केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने टर्म-1 रिजल्ट को लेकर जारी किया यह नोटिस, स्टूडेंटस को किया अलर्ट

कराया था बॉबी का प्रदर्शन
यह मामला दरअसल तब का है जब देश में आपातकाल लगाया गया था। उस वक्त कोरोना महामारी तो नहीं आई थी, मगर राजनीतिक कारणों से अपने घरों में रहने के लिए लोग मजबूर थे। जिस तरीके से वर्तमान सरकार ने घर में रह रहे लोगों को घरों तक ही सीमित रखने के उद्देश्य से टेलीविजन पर रामायण और महाभारत जैसे धार्मिक कार्यक्रमों का फिर से प्रसारण शुरू करवा दिया है, ठीक उसी प्रकार से पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने भी बेहद हैरान करने वाला तरीका उस वक्त अपनाते हुए दूरदर्शन पर ऋषि कपूर की फिल्म बॉबी का प्रदर्शन करवा दिया था। दरअसल एक प्रतिद्वंद्वी नेता की रैली में भीड़ को जाने से रोकने के लिए उन्होंने इस तरह का कदम उठाया था।

READ ALSO-  मशहूर गीतकार संतोष आनंद ने बताया कैसे इंसान रह सकता है जिंदादिल, पढ़िए दिल छू लेने वाली स्टोरी

इतना जबरदस्त था बॉबी का प्रभाव

इंदिरा गांधी के इस कदम से इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि बॉबी का प्रभाव कितना अधिक था। हुआ यह था कि आपातकाल के बाद जब इंदिरा गांधी की ओर से अचानक लोकसभा चुनाव कराने की घोषणा कर दी गई थी, तब बाबूजी यानी कि जगजीवन राम ने कांग्रेस छोड़ दी थी और उन्होंने अपनी पार्टी बना ली थी। वे जनता दल के साथ जा मिले थे। उस वक्त देश में एक मजबूत नेता जगजीवन राम को माना जा रहा था। दलितों के वे प्रमुख चेहरे के रूप में उभरे थे। बहुत से लोग उन्हें भविष्य के प्रधानमंत्री के तौर पर भी देख रहे थे।

READ ALSO-  Sandhya Mukhopadhyay : पद्मश्री ठुकराने वाली गायिका संध्या मुखोपाध्यय की बिगड़ी तबियत, अस्पताल में कराया गया भर्ती

बाबूजी की बॉबी पर जीत?
रामचंद्र गुहा ने लिखा है कि 6 मार्च को दिल्ली में विशाल जनसभा होने जा रही थी। ऐसे में ऋषि कपूर की लोकप्रिय रोमांटिक फिल्म बॉबी का कांग्रेस ने दूरदर्शन पर जनसभा में भीड़ को जमा होने से रोकने के लिए प्रदर्शन करवा दिया था। आम दिनों में फिल्म टीवी पर आती तो दिल्ली की आधी आबादी घरों पर ही रहती, लेकिन जगजीवन राम की जनसभा में जाने के लिए लोगों ने फिल्म छोड़ दी थी। एक अखबार ने तो हेडलाइन भी बना दी थी- आज बाबूजी ने बॉबी पर जीत हासिल की।