Press "Enter" to skip to content

पामगढ़ में कलश यात्रा के साथ श्रीमद भागवत कथा का हुआ शुभारंभ, कथा श्रवण करने पहुंच रहे लोग

जांजगीर-चाम्पा. पामगढ़ के श्री राधाकृष्ण मंदिर पर कलश यात्रा के साथ श्रीमद भागवत कथा का शुभारंभ किया गया। भागवत कथा के शुभारंभ के पूर्व नगर में विशाल शोभा यात्रा निकाली गई। इसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालु शामिल हुए। कथा का आयोजन श्री राधाकृष्ण मंदिर और छत्तीसगढ़ अठोरिया यादव समाज द्वारा कराया जा रहा है। कलश यात्रा दोपहर 03 बजे राधाकृष्ण मंदिर से गाजे-बाजे के साथ रवाना हुई जो अंबडेकर चौक, कन्या शाला, जगन तालाब होते हुए कथा स्थल पर पहुंचकर सम्पन्न हुई। कलश यात्रा में बड़ी संख्या में महिलाएं सिर पर कलश रखकर चल रही थीं। यात्रा में गाजे-बाजे पर धार्मिक भजनों की धुन बजती जा रही थी। कथा वाचक पूज्या प्रिया योगी जी ने विधि विधान से कथा का शुभारंभ किया।

पहले दिन कथा वाचक ने कहा कि हमें अपना जीवन सफल बनाने के लिए कथा का श्रवण अवश्य करना चाहिए। कथा में मिले ज्ञान को यदि हम अपने जीवन में उतारेंगे तो निश्चित ही हमारा जीवन सफल हो जाएगा। उन्होंने कहा कि निश्चित ही हमें प्रभु का गुणगान करना चाहिए। इससे हमारे कष्ट दूर होते हैं और हमें सुखी जीवन प्राप्त होता। कथा की सार्थकता जब ही सिध्द होती है, जब इसे हम अपने जीवन में व्यवहार में धारण कर निरंतर हरि स्मरण करते हुए अपने जीवन को आनंदमय, मंगलमय बनाकर अपना आत्म कल्याण करें। भागवत कथा से मन का शुद्धिकरण होता है। इससे संशय दूर होता है और शांति व मुक्ति मिलती है। श्रीमद् भागवत कथा श्रवण से जन्म जन्मांतर के विकार नष्ट होकर प्राणी मात्र का लौकिक व अ आध्यात्मिक विकास होता है। पहले दिन कथा श्रवण करने के लिए बड़ी संख्या में लोग पहुंचे।

READ ALSO-  छत्तीसगढ़ : दूल्हे के अरमानों पर फिर गया पानी, बारात निकलने से पहले ही उठा ले गई पुलिस, जानिए क्या है...पूरा मामला
error: Content is protected !!