Press "Enter" to skip to content

गोधन न्याय योजना : जिले के 2 हजार 216 पशुपालकों ने बेचा 2 लाख 97 हजार 607 किलोग्राम गोबर, 2 रूपए प्रति किलो की दर से होगा 5 अगस्त को भुगतान, सहकारी बैंक के माध्यम से हितग्राही के बैंक खाते में होगा सीधा ट्रांसफर

जांजगीर-चांपा. जिले में गोधन न्याय योजना के तहत- 20 जुलाई से -1 अगस्त तक ग्राम पंचायत एवं नगरीय निकाय की गोठानों में गोबर बेचने वाले पशुपालकों को उनके खाते में 5 अगस्त को भुगतान किया जाएगा।
जिले के 2 हजार 216 पशुपालकों ने 1 अगस्त तक 2 लाख 97 हजार 607 किलोग्राम गोबर गोठान के माध्यम से बेचा है। इन पशुपालकों को बेचे गए गोबर 2 रूपए किलोग्राम की दर से 5 लाख 95 हजार 214 रूपए का भुगतान सहकारी बैंक के माध्यम से किया जाएगा।
मुख्य कार्यपालन अधिकारी तीर्थराज अग्रवाल ने बताया कि जिले में गोधन न्याय योजना का सकारात्मक क्रियान्वयन कलेक्टर श्री यशवंत कुमार के मार्गदर्शन में किया जा रहा है।
जिले में गत 20 जुलाई को गोधन न्याय योजना का शुभारंभ होने के साथ ही ग्रामीणों, पशुपालकों द्वारा गोबर एकत्र कर गोठान में बेचना शुरू कर दिया है। गोठान समिति के द्वारा गोठान में लाए गए गोबर का हिसाब रजिस्टर में दर्ज किया जा रहा है। इसके बाद पशुपालक, गोधन मित्र, सखी एवं स्व सहायता समूह को भुगतान करने के लिए सहकारी बैंक में खाते खुलवाए जाने की प्रक्रिया शुरू की गई।
2 हजार 880 पशुपालकों का पंजीयन –
जिपं सीईओ श्री अग्रवाल ने बताया कि गोबर बेचने वाले पशुपालकों का भुगतान सहकारी किया जाएगा। यह भुगतान 20 जुलाई से 1 अगस्त तक गोठान में गोबर बेचने वाले पशुपालकों को किया जाएगा। उन्होंने बताया कि सहकारी बैंक से प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र की 255 गोठान पंजीकृत की गई है, इनमें से 248 गोठान क्रियाशील हैं। सहकारी बैंक के माध्यम से 2 हजार 8 सौ 80 पशुपालकों का पंजीयन किया गया। इनमें 2 हजार 216 पशुपालकों द्वारा 1 अगस्त तक गोठान में गोबर बेचा गया है। उनका अभी गोबर का भुगतान किया जा रहा है।
इसके अलावा 2 अगस्त के बाद से जिन पशुपालकों ने गोबर बेचा है उनका सहकारी बैंक के माध्यम से पशुपालकों का सतत भुगतान होता रहेगा। गोठान में नवीन पशुपालकों का पंजीयन कर खाता खोला जाएगा और उनका भी भुगतान सतत प्रक्रिया के माध्यम से खाते में किया जाएगा। जिले में ग्रामीण एवं नगरीय निकाय की गोठान में 2 लाख 97 हजार 607 किलोग्राम गोबर की खरीदी 1 अगस्त तक की गई है। इस गोबर का भुगतान 5 अगस्त को 2 रूपए किलोग्राम के हिसाब से किया जाएगा, जिसकी राशि 5 लाख 95 हजार 214 रूपए पशुपालकों के बैंक खाते में सीधा पहुंचेगी।

READ ALSO-  नगरदा क्षेत्र में सार्वजनिक जगह पर शराब पीने वाले को पुलिस ने किया गिरफ्तार