Press "Enter" to skip to content

गोधन न्याय योजना : दूध के अलावा गोबर से भी आमदनी शुरू, पशुपालक सूरज कश्यप बेचेगा माह में 20 हजार रूपए से अधिक का गोबर

जांजगीर-चांपा. गोधन न्याय योजना का लाभ, जिले के जिले पशुपालको को मिलने लगा है। गाय, भैंस पालने वाले पशुपालकों को पहले केवल दूध व खाद से ही आमदनी होती थी। अब हर पंद्रह दिनों में गोबर बेचने का पैसा भी मिलेगा। राज्य सरकार ने गोधन न्याय योजना के तहत 02 रूपए प्रति किलो की दर से गोबर खरीदना प्रारंभ किया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा बुधवार को 2,216 पशुपालको से क्रय किये गये 2 लाख 97 हजार 607 किलो गोबर का 05 लाख 95 हजार 214 रूपए आनलाईन भुगतान किया गया।
जिले के नवागढ़ ब्लाक के ग्राम पचेड़ा निवासी सूरज कश्यप को 5 अगस्त को 40 मवेशियों से एकत्र किये 2,917 किलो गोबर बेचने पर 5,834 रूपए का आनलाइन भुगतान प्राप्त हुआ है। उन्होंने बताया पहले गोबर का उपयोग पारंपरिक तरीके से गोबर खाद बनाने में करते थे। जिससे नगद लाभ नहीं मिल पाता था। अब गोधन न्याय योजना से दूध के अलावा गोबर से भी नगद आमदनी प्राप्त होने लगी है। प्रतिदिन उसे 45 से 50 किलो गोबर मिल जाता है। जिससे उन्हें 20 हजार रूपए से अधिक की आय होगी।
श्री सूरज ने कहा कि उसने कभी सोंचा नहीं था कि गोबर से भी नगदी आय होगी। उन्होंने बताया कि गोबर बेचने से मिलने वाली इस अतिरिक्त आय का उपयोग वे डेयरी और खेती- किसानी का विस्तार करने में लगाएंगे। श्री सूरज ने कहा कि गोधन न्याय योजना से पशुपालकों का उत्साह बढ़ा है। उन्होंने इस योजना के शुरू करने पर राज्य सरकार को धन्यवाद दिया है।

READ ALSO-  कोरोना अपडेट : छत्तीसगढ़ में आज 5625 नए मरीज मिले, 9 मरीज की हुई मौत, मौत के आंकड़े नहीं हो रहे कम, जांजगीर-चाम्पा जिले में मिले इतने मरीज...