छत्तीसगढ़

डॉ. खूबचंद बघेल छत्तीसगढ़ के स्वाभिमान के प्रतीक : भूपेश बघेल, मुख्यमंत्री ग्राम पथरी में डॉ. खूबचंद बघेल की पुण्यतिथि पर आयोजित पुरखा के सूरता कार्यक्रम में हुए शामिल

Follow Us on-
Share on-

रायपुर. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि डॉ. खूबचंद बघेल न सिर्फ छत्तीसगढ़ के स्वप्न दृष्टा थे बल्कि छत्तीसगढ़ के स्वाभिमान के प्रतीक थे। वे चाहते थे कि छत्तीसगढिया स्वाभिमान से जीये, स्वावलंबी हो तथा जीवन के सभी क्षेत्रों में भी उनका विकास हो। डॉ. खूबचंद बघेल छत्तीसगढ की अस्मिता और सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ जीवन भर संघर्ष किया। वे छत्तीसगढ़ी संस्कृति को बढ़ावा देने के प्रबल पक्षधर रहे हैं। मुख्यमंत्री श्री बघेल आज डॉ. खूबचंद बघेल की 52वीं पुण्यतिथि के अवसर पर ग्राम पथरी (धरसींवा) में पुरखा के सुरता कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि डॉ. खूबचंद बघेल ने शिक्षा, सहकारिता के क्षेत्र सहित सामाजिक आंदोलनों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। वे छत्तीसगढ़ के स्वपनदृष्टा थे। उन्होंने 1967 में छत्तीसगढ भ्रातृ संघ का गठन किया था। उन्होंने पृथक छत्तीसगढ़ राज्य बनाने की मांग रखी। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार डॉ. बघेल के सपनों को पूरा करने का काम कर रही है। ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करने के लिए राज्य सरकार द्वारा अनेक योजनाएं संचालित की जा रही है। गोधन के सरंक्षण और संवर्धन के लिए गौठान को माध्यम बनाया गया है। मुख्यमंत्री श्री बघेल और कृषि मंत्री श्री रविन्द्र चौबे ने ग्राम पथरी में डॉ. खूबचंद बघेल की पुण्यतिथि पर उनकी प्रतिमा पर श्रद्धा-सुमन अर्पित किए। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर ग्राम पथरी की सड़कों को टू-लेन बनाने और नवा रायपुर के मुख्य चौक में डॉ. बघेल की आदमकद मूर्ति स्थापित करने की घोषणा की।

ये भी पढ़ें-  तुंहर सरकार तुंहर द्वार : नागरिकों की समस्याओं के त्वरित निराकरण के लिए महत्वपूर्ण : मुख्यमंत्री, रायपुर की तर्ज पर राज्य के अन्य सभी नगर निगमों में भी तुंहर सरकार तुंहर द्वार कार्यक्रम के आयोजन की घोषणा

इस अवसर पर कृषि मंत्री श्री रविन्द्र चौबे ने कहा कि पुरखों के सपनों को पूरा करने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है। किसानों के हित के लिए सभी संभव प्रयास किए जा रहे हैं। सरकार ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत किसानों को अदान सहायता के रूप में प्रोत्साहन राशि दी जा रही है। गौठान के माध्यम से लोगों को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराया जा रहा है। गोबर खरीदी कर महिला स्व-सहायता समूहों के माध्यम से वर्मी कम्पोस्ट के निर्माण के साथ ही अन्य आयमूलक गतिविधियों में रोजगार उपलबध कराया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के वंशजों को सम्मानित किया। कार्यक्रम में उन्होंने कृषि के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वाले कृषकों को उत्कृष्ट कृषक सम्मान से भी नवाजा। कार्यक्रम में स्थानीय विधायक श्रीमती अनिता योगेंद्र शर्मा ने क्षेत्र की समस्याओं के बारे में अवगत कराया।

ये भी पढ़ें-  मंत्री रविन्द्र चौबे से सम्बद्ध विभागों की 7785 करोड़ रूपए की अनुदान मांगे ध्वनित से पारित, कृषि विभाग के बजट में 13 प्रतिशत की वृद्धि, किसानों को लाभ पहुंचाने लाख और मछली पालन को कृषि का दर्जा

कार्यक्रम में खनिज विकास निगम के अध्यक्ष गिरीश देवांगन, राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक, पूर्व विधायक बलौदाबाजार जनक वर्मा, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती डोमेश्वरी वर्मा, जनपद अध्यक्ष श्रीमती उत्तरा कमल भारती, ग्राम पथरी की सरपंच श्रीमती प्रीति सोनी, अनेक जनप्रतिनिधि, कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय यादव सहित बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित थे।


Share on-

Advertisment

error: Content is protected !!