Press "Enter" to skip to content

किसने सोचा था सेंचुरियन में एक साथ इतने सारे रिकॉर्ड बना देगी विराट कोहली की क्रिकेट सेना, जानिए…

सेंचुरियन. वो मैदान पर जिस पर साउथ अफ्रीका इतराता था. मज़ाल है कि कोई भी टीम इस मैदान पर साउथ अफ्रीका को हरा दे. आसान शब्दों में बोले तो जिस तरह इंग्लैंड के लिए ‘लॉर्ड्स’, ऑस्ट्रेलिया के लिए ‘गाबा’. ठीक वैसे ही साउथ अफ्रीका के लिए ‘सेंचुरियन’. आंकड़े कहते हैं कि भारत के खिलाफ मुकाबले से पहले साउथ अफ्रीका सेंचुरियन में सिर्फ दो बार ही हारा. 26 मुकाबले खेले थे. 21 में जीत मिली. दो हार के साथ तीन मैच ड्रॉ रहे थे. जीत प्रतिशत 80.77 का. किसी भी टीम का किसी एक वेन्यू पर सबसे बेस्ट रिकॉर्ड.

लेकिन कोहली (Virat Kohli) की टीम को घमंड तोड़ना आता है. और सेंचुरियन में साउथ अफ्रीका का हश्र वही हुआ, जो गाबा में ऑस्ट्रेलिया और लॉर्ड्स में इंग्लैंड का हुआ था. इंडिया ने एकतरफा मुकाबले में साउथ अफ्रीका को 113 रन से हरा दिया. और कोहली सेना ने वो कारनामा कर दिखाया. जो अब तक भारतीय क्रिकेट इतिहास में कभी नहीं हुआ था.

READ ALSO-  टीम इंडिया में फूटा कोरोना बम, कप्तान सहित 5 खिलाड़ी मिले संक्रमित, मचा हड़कंप

इससे पहले सेंचुरियन में टीम इंडिया दो बार मेजबान टीम से भिड़ी थी. और दोनों बार टीम को हार का सामना करना पड़ा था. इस जीत के साथ ही भारत ने तीन मैचों की टेस्ट सीरीज में 1-0 की बढ़त हासिल कर ली है. सेंचुरियन की जीत कई मायनों में भारत के लिए ऐतिहासिक है. इस जीत के बाद भारत ने कई बड़े रिकॉर्ड्स भी बनाए. आइये जानते हैं उन दस बड़े रिकॉर्ड के बारे में जो सेंचुरियन जीत के बाद बने.

न श्रीलंका, न पाकिस्तान और न ही बांग्लादेश. किसी भी एशियाई टीम ने सेंचुरियन में टेस्ट नहीं जीता था. लेकिन भारत ने कर दिखाया. अब हम सेंचुरियन में टेस्ट जीतने वाले पहले एशियाई देश हैं.

भारत ने साउथ अफ्रीका में सिर्फ चौथी बार टेस्ट जीता है. इससे पहले 2006 और 2010 में टीम इंडिया को डरबन में जीत मिली थी. इसके बाद कोहली की कप्तानी में भारत ने साल 2018 में जोहानिसबर्ग में टेस्ट जीता था.

READ ALSO-  IPL 2022 : क्या IPL में खेलते हुए नज़र आएंगे Joe Root? Mega Auction से पहले खुद किया खुलासा...

साल 2021 में टीम इंडिया ने विदेशी सरजमीं पर 4 टेस्ट जीते- ब्रिसबेन, लॉर्ड्स, ओवल और सेंचुरियन. इससे पहले सिर्फ 2018 में टीम इंडिया ने विदेशों में 4 मैच जीते थे.

1992 के बाद अपने घर में साउथ अफ्रीकी टीम सिर्फ तीन बार दोनों पारियों में 200 रन के भीतर ऑलआउट हुई. दो मर्तबा भारत के खिलाफ और एक बार ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ. इतना ही नहीं, इससे पहले सेंचुरियन में मेजबान टीम कभी भी 200 रन के भीतर ऑलआउट नहीं हुई थी.

बतौर कप्तान कोहली की साउथ अफ्रीका के खिलाफ आठवीं जीत है. इस मामले में उन्होंने रिकी पॉन्टिंग की बराबरी कर ली है. साउथ अफ्रीका के खिलाफ पॉन्टिंग ने 12 टेस्ट मैच में आठ जीत हासिल की थी.

कोहली दो बॉक्सिंग डे टेस्ट जीतने वाले पहले भारतीय कप्तान बन गए हैं. सेंचुरियन से पहले कोहली की कप्तानी में भारत ने 2018 में ऑस्ट्रेलिया को मेलबर्न टेस्ट में हराया था.

READ ALSO-  2021 की आईसीसी पुरुष टेस्ट टीम का हुआ ऐलान, 3 भारतीय खिलाड़ी शामिल.... जानिए...

कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया ने 50वीं बार किसी टीम को एक पारी में 200 रन के भीतर निपटाया है. ये उपलब्धि हासिल करने वाले कोहली इकलौते कप्तान हैं. उनके बाद दूसरे नंबर ग्रेम स्मिथ आते हैं. स्मिथ की कप्तानी में साउथ अफ्रीका ने 48 बार ये कारनामा किया था.

साल 2021 में भारत की ये आठवीं जीत है. भारत ने सबसे ज्यादा 2016 में नौ टेस्ट जीते थे. जिसमें चार जीत एशिया के बाहर मिली थी. 2010 में भी भारत ने आठ टेस्ट जीते थे.

2021 में भारत ने विपक्षी टीम को 200 के भीतर 12 बार ऑलआउट किया. साल 1978 में इंग्लैंड ने विपक्षी टीम को सबसे ज्यादा 13 बार 200 रन के भीतर ऑलआउट किया था. इंग्लैंड की बराबरी करने से टीम इंडिया चूक गई.

साउथ अफ्रीका, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में दो से ज्यादा टेस्ट मैच जीतने वाले विराट कोहली इकलौते कप्तान भी बने.