Press "Enter" to skip to content

छत्तीसगढ़: नर्सिंग कॉलेज की 60 छात्राएं हुई फूड पॉइजनिंग की शिकार! दहशत के बीच कलेक्टर ने दिए जांच के आदेश

भिलाई। शहर के मॉडल टाउन क्षेत्र में संचालित रस्तोगी नर्सिंग कॉलेज की 60 छात्राएं फूड प्वाइजनिंग की शिकार हो गई हैं। सभी छात्राओं को नेहरू नगर के हाईटेक अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इसमें से एक छात्रा की मौत हो गई है। 46 छात्राओं का अस्पताल में इलाज जारी है। वहीं शेष 13 छात्राओं की स्थिति पहले से बेहतर बताई जा रही है।

बता दें कि यहां के रस्तोगी नर्सिंग कॉलेज में 300 छात्राएं हॉस्टल में रहकर एएनएम और नर्सिंग का कोर्स करती हैं। 4 दिन पहले कुछ छात्राओं को फूड पॉइजनिंग की शिकायत आई थी।

READ ALSO-  मासूम सवाल’ के पोस्टर पर बवाल, निर्माता सहित पूरी टीम के खिलाफ केस दर्ज, जानिए पूरा मामला

प्रबंधन ने उन्हें उपचार के लिए हॉस्पिटल में भर्ती कराया था। इसके बाद एक-एक कर और भी छात्राओं की तबीयत बिगड़ती चली गई। स्टूडेंट्स का कहना है कि उन्हें गंदा खाना दिया जाता है।

कॉलेज प्रबंधन पिछले तीन दिनों से इस मामले को दबाया जा रहा था। चौथे दिन जब बालोद निवासी कामिनी की डेथ हुई तो मामला आग की तरह फैला। जानकारी मिलते ही भिलाई नगर निगम के मेयर नीरज पाल, आयुक्त लोकेश चंद्राकर, उपायुक्त अशोक द्विवेदी, पार्षद वशिष्ठ नारायण मिश्रा सहित अन्य लोग पहुंचे। मेयर नीरज पाल ने दुर्ग कलेक्टर से बात की और मामले की जांच कराने की बात कही है।

READ ALSO-  `नागिन 6` फेम तेजस्वी प्रकाश की चमकी किस्मत, इस फिल्म के जरिए करेंगी डेब्यू. देखिए..

साथ ही जांच में कहा गया कि शहर के सारे हॉस्टेल के खाने की मेनू देखी जाएगी और खाने को टेस्ट किया जायेगा। खाना ठीक ना होने पर कड़ी करवाई की जाएगी।

छात्राओं ने कहा- गन्दा खाना दिया जाता है
जब मेयर नीरज पाल ने बीमार छात्राओं से बात की तो उन्होंने बताया कि मेस में उन्हें घटिया खाना दिया जाता था। बासी खाना खिलाया जाता था। दाल पानी की तरह होती थी। सब्जी, चावल व रोटी की क्वालिटी बिल्कुल खराब थी। बासी व खराब खाना खाने से ही उनकी तबीयत बिगड़ी है।

error: Content is protected !!