Press "Enter" to skip to content

चैतन्य कॉलेज में हुआ पूर्व छात्र सम्मेलन, पूर्व छात्र महाविद्यालय की नींव के पत्थर हैं : वीरेंद्र तिवारी, पूर्व छात्र सम्मेलन में जुटे छात्र, बोले – आज हम जो हैं, महाविद्यालय से मिली शिक्षा की बदौलत हैं

जांजगीर-चाम्पा. पामगढ़ के चैतन्य कॉलेज में स्थापना वर्ष 2001 के प्रथम बैच के पूर्व छात्र-छात्राओं का सम्मेलन हुआ. मां सरस्वती की प्रतिमा का पूजन कर सम्मेलन आरम्भ किया गया. साथ ही पूर्व छात्रों का अभिनंदन स्वागत गीत के माध्यम से किया. इस बीच सहायक प्राध्यापक ऋत्विज तिवारी ने स्वागत भाषण देते हुए स्थापना वर्ष 2001 से लेकर वर्तमान सत्र तक के विकासक्रम, सफलताओं व सुनहरे यादों को ताजा किया.


कॉलेज के संचालक वीरेंद्र तिवारी ने पूर्व छात्रों व शिक्षकों का अभिनंदन किया. हर छात्र छात्राओं से जुड़े अनुभव को साझा करते हुए कहा कि 129 छात्र छात्राओं से आरम्भ हुए महाविद्यालय के अनमोल रत्नों के यादों को पुनः स्मरण करने का दिन है। महाविद्यालय से कई ऐसे छात्र पढ़ कर निकले है, जो आज के समय में प्रशासनिक, राजनीतिक पदों पर काबिज है, जो हमारे लिए गर्व की बात है। पूर्व छात्र महाविद्यालय की नींव के पत्थर है, पूर्व छात्र ही नवीन छात्रों के सच्चे मार्गदर्शक और प्रेरणा श्रोत होते है। प्राचार्य डॉ. शरद के. बाजपेयी ने कहा कि यह एक भावनात्मक क्षण होता है। यादें सालों तक संयोजी जाती है। संघर्ष के बिना सफलता प्राप्त नही किया जा सकता, पूर्व छात्रों ने संघर्ष कर आज जो सफलता प्राप्त की है, जो आने वाली पीढ़ियों के लिए फायदेमंद सिद्ध होगा। इस बीच पूर्व शिक्षकों ने भी अनुभवों को साझा किया।पुराने छात्रों का उत्साह देखते बन रहा था, बिछड़े साथियों से मिलकर कई छात्रों की आंखे हुई नम तो कई छात्रों ने कॉलेज संचालक व पूर्व शिक्षकों से मांगा आशीर्वाद। सभी ने कॉलेज की बेहतरी के लिए ठोस कदम उठाने का आह्वान किया। पूर्व छात्रों ने कहा कि कैंपस की यादें ताउम्र रहती है। समय के साथ पढ़ाई का तरीका तो बदला है, लेकिन कॉलेज से पहले की तरह ही होनहार विद्यार्थी पढ़ कर निकल रहे है।

छात्रों ने कहा कि महाविद्यालय के संस्कार, आचरण व शीलता जैसे आवश्यक मानवीय गुणों का विकास होता है। आज जो भी हम हैं, वह महाविद्यालय से मिले शिक्षा के कारण ही हैं। महाविद्यालय के शिक्षक ही बेहतर नागरिकों का निर्माण करते हैं। हम यदि आज सुचारू रूप से जीवन जी रहे हैं। इसमें महाविद्यालय व शिक्षकों की अहम भूमिका है।।
इस बीच कॉलेज संचालक श्री तिवारी ने सभी पूर्व छात्रों को प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया। पूर्व छात्रों ने भी श्री तिवारी व संस्था को स्मृति चिन्ह व पुस्तकालय के लिए पुस्तक भेंट किया। ततपश्चात स्नेह भोज का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का संचालन अभिषेक पाण्डेय ने किया। कार्यक्रम में पूर्व छात्र व स्टाफ उपस्थित थे।

error: Content is protected !!