Press "Enter" to skip to content

धान खरीदी केन्द्र में अनियमितता पाई जाने पर 2 केन्द्र प्रभारी निलंबित, सक्ती, मालखरौदा, जैजैपुर और डभरा के पर्यवेक्षकों को कारण बताओ सूचना जारी

जांजगीर-चांपा. समर्थन मूल्य पर क्रय किए जा रहे धान खरीदी में लापरवाही और अनियमितता बरतने पर पथरिया और पकरिया (झूलन) के केंद्र प्रभारियों को निलंबित कर दिया गया है। वहीं कर्तव्य के प्रति लापरवाही बरतने पर सक्ती, मालखरौदा, जैजैपुर और डबरा के धान खरीदी पर्यवेक्षकों को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

कलेक्टर जितेन्द्र शुक्ला ने धान खरीदी में लापरवाही बरतने पर संबंधितों के खिलाफ नियमानुसार कड़ी कार्यवाही करने के निर्देश दिये हैं।

READ ALSO-  डभरा क्षेत्र में नाबालिग लड़की से दुष्कर्म, आरोपी युवक गिरफ्तार, अपहरण में सहयोग करने वाले अन्य 2 आरोपी गिरफ्तार

प्रभारी उप पंजीयक, सहकारी संस्थाएं द्वारा निरीक्षण में प्राप्त कमियों के लिए बैंक शाखा सक्ती के पर्यवेक्षक कमल कटकवार, शाखा- मालखरौदा के पर्यवेक्षक राजेश साहू, शाखा-जैजैपुर के पर्यवेक्षक कौशल साहू एवं शाखा-डभरा के पर्यवेक्षक गजानंद राव को कर्तव्य के प्रति लापरवाही बरतने के परिपेक्ष्य में कारण बताओ सूचना पत्र जारी कर 03 दिवस में प्रतिवेदन प्रस्तुत करने कहा गया है।

पोरथा और पकरिया (झूलन) के प्रभारी निलंबित

प्रभारी उप पंजीयक सहकारी संस्थाएं ने बताया कि धान खरीदी केन्द्र में अनियमितता पायी जाने पर धान खरीदी केन्द्र पोरथा के प्रभारी बंशीलाल राठौर को निलंबित किया गया है। प्रभारी उपपंजीयक सहकारी ने बताया कि खरीदी केन्द्र पकरिया (झूलन) के धान खरीदी प्रभारी अमित कश्यप को कार्य से पृथक करते हुए सेवा नियमों के तहत निलंबन की कार्यवाही की जा रही है।

READ ALSO-  BIG NEWS : जांजगीर. हसौद क्षेत्र में कुएं में गिरने से बुजुर्ग महिला की मौत, मौके पहुंचकर पुलिस ने शुरू की जांच

धान को व्यवस्थित रूप से ढके जाने के निर्देश –

प्रभारी उप पंजीयक सहकारी संस्थाएं ने बताया कि आज गुरूवार 30 दिसंबर तक खरीदी केन्द्रों में धान के खराब होने अथवा क्षति होने की जानकारी प्राप्त नहीं हुई है। कलेक्टर के निर्देशानुसार जिले के जिला स्तरीय नोडल अधिकारियों, खाद्य तथा सहकारिता विभाग के अमले को उपार्जन केन्द्रों में उपार्जित धान के सुरक्षित रख-रखाव, धान के स्टेकिंग, पानी निकासी हेतु पर्याप्त डेनेज व्यवस्था, केप कव्हर एवं तारपोलिन से धान को व्यवस्थित रूप से ढके जाने के निर्देश दिये गये है।