Press "Enter" to skip to content

Chhattisgarh Goumutra : सरकार ने अभी बनाया गोमूत्र से जैविक कीटनाशक बनाने का प्लान, बहेराडीह की महिलाएं गोठान में दो साल से बना रहीं गोमूत्र से कीटनाशक

जांजगीर-चाम्पा. राज्य सरकार ने हरेली तिहार के दिन गोमूत्र खरीदी और उससे जैविक कीटनाशक दवाई बम्हास्त्र बनाने का एलान किया है, मगर जिले के जैविक क़ृषि ग्राम बहेराडीह में निर्मित गौठान को यहां के ग्रामीणों ने बलौदा जनपद उपाध्यक्ष नम्रता राघवेंद्र नामदेव के नेतृत्व में न सिर्फ मॉडल गौठान बनाया, बल्कि इस गौठान को ट्रेनिंग सेंटर के रूप में विकसित करने का निर्णय लिया है, जहाँ पर महिलाएं विगत दो साल से गोमूत्र से जैविक कीटनाशक दवाई बनाकर खेती में इस्तेमाल कर रहीं है.इतना ही नहीं, गौठान को पीआईएल के राखड से छः फीट पाटकर समतली करण कर ऊपर दो फीट डाले गए मिट्टी में महिला समूह ने खुद के खर्च से जीवामृत टैंक, एंजोला टैंक और जर्जर हैण्डपम्प में सबमरसिबल मशीन डालकर पोषण बाड़ी बनाया. गौठान परिसर में निर्मित खंडहर भवन को गौठान कार्यालय बनाकर जिले के किसानों को गोमूत्र से जैविक कीटनाशक, जीवामृत, वर्मीवाश, मशरूम उत्पादन, केंचुआ पालन हेचरी तैयार करने का प्रशिक्षण भी दिया जाता है.



READ ALSO-  Janjgir Pornography Arrest : इंस्टाग्राम पर चाईल्ड पोर्नोग्राफी अपलोड करने वाला आरोपी शख्स गिरफ्तार, शिवरीनारायण पुलिस की कार्रवाई

ऐसे भूमि पर क़ृषि विभाग द्वारा प्रदत्त मक्का का खेती को देखकर डीडीए एम आर तिग्गा ने समूह के कार्यों की न सिर्फ सराहना की, बल्कि गौठान कार्यालय में दान से लगे पंखा को देखकर एक सीलिंग पंखा खुद के नाम से लगवाकर क़ृषि के प्रति समूह की महिलाओ को हौसला बुलंद किया. उल्लेखनीय है कि क़ृषि विभाग के इस जैविक क़ृषि ग्राम बहेराडीह के अधिकतर किसान गौमूत्र से जैविक कीटनाशक, जीवमृत, वर्मीकम्पोस्ट से विगत 11 साल से जैविक क़ृषि कर रहे हैं.

READ ALSO-  Sakti Judgement : नाबालिग बालिका के साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपी को 20 वर्ष का कठोर कारावास, सक्ती के फास्ट ट्रैक कोर्ट का फैसला


2 क्विंटल केंचुआ का फिर मिला सप्लाई ऑर्डर
जिले में बलौदा ब्लॉक अंतर्गत जाटा पंचायत का आश्रित गाँव बहेराडीह की गंगे मईय्या स्व सहायता समूह को कोरबा नगर निगम से एक बार फिर 2 क्विंटल केंचुआ का सप्लाई ऑर्डर मिला. इससे पूर्व भी गौठान के लिए 4 क्विंटल केंचुआ सप्लाई कर चुके हैं. सालों से केंचुआ पालन कर रहीं समूह की सचिव पुष्पा यादव ने बताया कि स्थानीय जिले के अलावा कोरबा, रायगढ़, बलौदाबाजार, बिलासपुर, मुंगेली समेत छः जिलों के गौठानो में केंचुआ सप्लाई और ट्रेनिंग देकर पांच लाख रूपये गौशाला भी बनाई हैं. उन्होंने बताया कि गोधन न्याय योजना के तहत गोठान में दो रूपये की दर से गोबर भी बेचती हैं. उनके घर में एक नहीं, बल्कि दो गोबर गैस सायंत्र भी हैं. इससे उनके परिवार का भोजन भी पकता है

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!